Free Video Downloader

रूस की राह पर चलेगा चीन? ताइवान पर हमले को लेकर अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने क्यों जताई ये चिंता


न्यूयॉर्क: यूक्रेन के खिलाफ रूस (Russia-Ukraine War) की आक्रामक सैन्य कार्रवाई को लेकर अमेरिका की खुफिया एजेंसी CIA ने फिर चिंता जाहिर की है. सीआईए निदेशक विलियम बर्न्स ने कहा है कि, रूस के इस प्रतिरोध के कारण ताइवान को लेकर चीन भी कड़े तेवर दिखा सकता है. बीजिंग हमेशा से यह दावा करता आया है कि ताइवान उसका अभिन्न अंग है. चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने चेतावनी दी है कि ताइवान के पुनःएकीकरण को लेकर एक अगर कोई प्रतिरोध आता है तो वह सैन्य कार्रवाई करने से नहीं चूकेगा.

वियॉन में छपी रिपोर्ट के अनुसार, कई सैन्य विशेषज्ञों ने चिंता जताई है कि, यूक्रेन पर रूस के हमले को ढाल बनाकार चीन भी ताइवान पर अटैक कर सकता है. फाइनेंशियल टाइम्स को दिए इंटरव्यू में बर्न्स ने कहा कि, “मुझे लगता है कि चीनी नेतृत्व ताइवान पर नियंत्रण हासिल करने के लिए बल का उपयोग करने के किसी भी प्रयास और परिणामों बारीकी से गौर कर रहा है.”

यूक्रेन में और बढ़ेगा तनाव? खारकीव में रूस की इस कार्रवाई से भड़क सकते हैं अमेरिका और यूरोपीय देश

बर्न्स ने बताया कि उन्हें लगता है कि बीजिंग रूसी सैन्य बलों के खराब प्रदर्शन से हैरान है और इस बात से भी परेशान है कि पुतिन ने जो किया है उससे यूरोपीय देश और अमेरिका और करीब आ गए हैं. उन्होंने यह भी कहा कि, इस युद्ध के कारण रूस को दोहरी मार पड़ी है.

वहीं सीआईए निदेशक ने इस बात से भी इनकार कर दिया है कि रूस इस युद्ध में परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करेगा. पश्चिमी खुफिया एजेंसियों का मानना है कि पुतिन सिर्फ धमकी दे सकते हैं लेकिन न्यूक्लियर हथियारों का उपयोग नहीं करेंगे.

बता दें कि यूक्रेन पर हमले के बाद चीन ताइवान को लेकर इशारों-इशारों में धमकियां दे रहा है. हाल ही में उसने अमेरिका की ताइवान से बातचीत पर भी आपत्ति जताई थी और कहा था कि किसी तीसरे पक्ष का दखल मंजूर नहीं होगा.

Tags: China, Russia, United States, Vladimir Putin, Xi jinping



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

forty eight  ⁄    =  24