NBA स्टार ड्वाइट हावर्ड को भा गई मोक्ष की नगरी काशी, पीएम मोदी की भी तारीफ में कही बड़ी बात


नई दिल्ली. पश्चिमी देशों के बड़े-बड़े लोग अक्सर शांति की तलाश में भारत आते हैं और सबका पड़ाव शिव की नगरी काशी होता है. अमेरिका की बास्केटबॉल लीग एनबीए के खिलाड़ी ड्वाइट हावर्ड भी हाल ही में शांति की तलाश में काशी यानी बनारस पहुंचे. उन्होंने जाना कि गंगा के किनारे बसे बाबा विश्वनाथ की काशी को क्यों मोक्ष की नगरी कहा जाता है? और यहां चौबीसों घंटे क्यों शव जलाए जाते हैं और क्यों गौतम बुद्ध ने यहां से लगे सारनाथ में पहला उपदेश दिया था. हावर्ड ने काशी का कायाकल्प करने के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी तारीफ की.

हावर्ड ने इंस्टाग्राम पर शेयर किए गए पोस्ट में लिखा, “वाराणसी की आध्यात्मिक यात्रा के बाद खुद के भीतर शांति और सुकून महसूस कर रहा हूं. इस एक यात्रा ने आत्मा को फिर से जीवंत कर दिया. पवित्र शहर के कायाकल्प के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई. वाराणसी की तरफ दुनिया के कई दिग्गज आकर्षित हुए हैं. मैं भी खुद को यहां पाकर विनम्र महसूस कर रहा हूं. मुझे यकीन है कि इस पवित्र शहर का पुनर्जन्म कई और लोगों को प्रेरित करेगा.”

हावर्ड ने काशी में गंगा आरती में शामिल होकर अपने करीबियों के साथ ही उन लोगों के लिए भी प्रार्थना की, जिन्हें वह नहीं जानते हैं. उन्होंने गंगा आरती के बाद अपने माथे पर त्रिपुंड भी लगवाया और भारतीय परंपरा और संस्कृति को समझने की कोशिश की.

Badminton Asia Championships: पीवी सिंधु, सात्विक-चिराग बैडमिंटन एशिया चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में

चैंपियंस लीग: मैनचेस्टर सिटी से हार के बावजूद रियल मैड्रिड की उम्मीदें जीवंत, रोहित शर्मा भी कर रहे थे सपोर्ट

ड्वाइट हावर्ड नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन (NBA) के शीर्ष खिलाड़ियों में शुमार हैं. वो लॉस एंजिल्स लेकर के सेंटर फॉरवर्ड हैं. उनके काशी पहुंचने से यूपी का पर्य़टन विभाग भी काफी खुश है. विभाग ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से एनबीए के स्टार खिलाड़ी ड्वाइट हावर्ड की वाराणसी यात्रा की तस्वीर शेयर की और लिखा कि इस दिग्गज खिलाड़ी ने गंगा आरती की अनुभूति की और संस्कृति एवं आध्यात्मिकता के सबसे पुराने केंद्रों में शामिल इस शहर की यात्रा से जुड़े अपने संस्मरण साझा किए.

Tags: NBA, PM Modi, Sports news, Varanasi Ganga Aarti



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twenty two  ⁄  twenty two  =