कोरोना की दस्तक के साथ चाइना ने फिर कर दी किलेबंदी, पॉज़िटिव केस मिलते ही खड़ी कर दी लोहे की दीवार!


चीन का वुहान शहर ही था जिसने सबसे पहले कोरोना की प्रकोप झेला था. शायद यही वो अकेला शहर रहा होगा जहां के लोगों को बीमारी का प्रकोप रोकने के नाम पर अमानवीय नियम-कानूम का पालन करने के लिए बाध्य किया गया होगा. एक बार चीन के एक शहर को कुछ वैसे ही नियमों के बंदिश में कैद किया जा रहा है. क्योंकि एक बार फिर चाइना में कोरोना के नअ वैरिएंट ने दस्तक दे दी है.

अपने बेहद कड़े और अमानवीय नियमों की बदैलत ही चीन में कोरोना ने एक शहर के भीतर ही दम तोड़ दिया था. भले ही उसके बाद पूरी दुनिया ने उस महामारी का कहर झेला और अब तक कई जगहों पर झेला जा रहा है. लेकिन एक बार फिर चीन में कोरोना की एंट्री हो गई है. चीन के शंघाई में फिर से बंदीगृह जैसे हालात बन गए हैं. शहर में कोरोना की दस्तक के साथ सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया. साथ ही जिन घरों में पॉज़िटिव केसेज मिल रहे हैं वहां घर के बाहर लोहे की जालीदार दीवार बनाकर इलाकों को सील किया जा रहा है.

Covid lockdown in china

सौ.सोशल मीडिया- कोविड हो या न हो, घरों के बाहर निकलना मना, लोहे की हरी जालीदार दीवार से कवर होने लगी सोसायटी और कॉलोनी

घरों के बाहर लगा दिए गए बेड़े
कोविड महामारी के चलते पूरी दुनिया लॉकडाउन हो गई लेकिन चीन का लॉकडाउन दुनिया का सबसे सख्स लॉकडाउन कहा जाता है. जिसके द्वारा पुलिस लोगों के घरों के बाहर बाड़े बना देती है. जिसके बाद अपने ही घर से बाहर निकलना नामुमकिन हो जाता है. इस बार भी चीन में ऐसा ही हुआ है. शंघाई में कोविड के केसेज़ मिलते ही पूरे शहर में जगह-जगह हरे रंग की लोहे की दीवारे बना दी गई और लोग अपने-अपने घरों में फंस गए. अब हालत ये है कि कोरोना हुआ हो या नहीं लेकिन लोग घरों की सीमा लांघ नहीं सकते.

अचानक बढ़े कोविड केसेज से चीन में बढ़ गई सख्ती
24 अप्रैल को कोरोना के 21,000 नए मामले दर्ज किए गए जिसके कारण शंघाई के 25 मिलियन लोगों को हफ्तों के लिए अपने-अपने घरों में बंद कर दिया गया. रविवार को 39 लागों की कोरोना से मौत के बाद यहां नियम का और सख्ती से पालन किया जाने लगा. नतीजा ये है कि अभी शंघाई में नवजात और छोटे बच्चों को अपने परिवार से अलग कर दिया गया है. नए नियत के तहत जिस भी जगह एक भी पॉज़ीटिव केस है वहां कि बिल्डिंग और सोसायटी को चारों तरफ से 2 मीटर ऊंची हरी लोहे की जालीदार बाड़ से घेर दिया गया. शंघाई के सुपर सख्त नियम चीन की शून्य-कोविड नीति का हिस्सा हैं, जिसका उद्देश्य देश से वायरस को खत्म करना है. लेकिन लोगों के सामने समस्या ये है कि उन्हें पता ही नहीं है कि लॉकडाउन कब खत्म होगा औऱ उन्हें कब तक अपने घरों में जेल के कैदी की तरह रहना होगा.

Tags: Ajab Gajab news, Coronavirus Lockdown, Khabre jara hatke, Weird news



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eighteen  ⁄  2  =