शाहिद अफरीदी ने अपनी ही सरकार को घेरा! कहा- पीसीबी में बंद हो सरकारी हस्तक्षेप


कराची. पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) को पूरी तरह स्वायत्त संस्था बनाने की बात की, जिसके मामलों में सरकार का कोई हस्तक्षेप नहीं हो. अफरीदी (Shahid Afridi) ने कहा कि मुझे लगता है कि पीसीबी में सरकार का हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए. चेयरमैन और बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी की नियुक्ति में सरकार का कोई लेना-देना नहीं होना चाहिए. अफरीदी की यह टिप्पणी ऐसे समय पर आई है, जब सरकार और प्रधानमंत्री के बदलने से मौजूदा चेयरमैन रमीज राजा (Ramiz Raja) के भविष्य को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है. अटकलों का दौर जारी है कि नए प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ की पसंद के व्यक्ति को यह जिम्मेदारी दी जाएगी.

उन्होंने यहां एक कार्यक्रम के इतर कहा, पीसीबी को पूरी तरह से स्वतंत्र होना चाहिए और इसकी खुद की चुनावी प्रणाली होनी चाहिए, जिसमें सरकार का कोई हस्तक्षेप नहीं हो. पाकिस्तानी क्रिकेट में देश का प्रधानमंत्री स्वत: ही पीसीबी का सरंक्षक नियुक्त हो जाता है और वह 2 उम्मीदवारों को नामांकित करता है, जिसमें से एक को आमसभा चेयरमैन चुनती है. उन्होंने कहा कि हर बार नया चेयरमैन आता है, वह अपना ही तरीका लेकर आता है.

क्रिकेट में खड़ी हो जाती हैं समस्याएं

इसे बदलने की बात करते हुए शाहिद अफरीदी ने कहा कि इसलिए पाकिस्तान क्रिकेट समस्याओं का सामना करता है. मुझे लगता है कि पाकिस्तान के घरेलू क्रिकेट में यह चीज काफी बड़ी भूमिका अदा करती है, क्योंकि अगर बोर्ड नई प्रणाली लेकर आता है, तो उसे सुधार देखने के लिए उचित समय देना चाहिए. मालूम हो कि रजीम राजा ने घरेलू क्रिकेट में कई बदलाव किए थे. लेकिन नई सरकार बनने के बाद कई पुराने अधिकारी पुराने फॉर्मेट को ही लागू करने की बात कह रहे हैं.

IPL 2022: टी20 वर्ल्ड कप के 2 दिग्गज आईपीएल में हुए धराशायी, इस बार टीम से होंगे बाहर!

IPL 2022: रवि शास्त्री ने कहा- यह गेंदबाज जल्द टीम इंडिया में दिख सकता है, उमरान मलिक पर भी बोले

रमीज राजा ने महिला टी20 लीग को भी शुरू करने की बात कह चुके हैं. लेकिन उनके पद से हटने के बाद बोर्ड के पूरे कार्यक्रम के बदलाव होने की संभावना है. बीसीसीआई भी अगले साल से 6 टीमों के महिला आईपीएल की शुरुआत करने जा रहा है.

Tags: Imran khan, Pakistan, Pcb, Ramiz Raja, Shahid afridi



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

  ⁄  one  =  ten