China sent 56 warplanes into taiwan defense zone on monday


ताइपे. चीन (China) ने सोमवार को भी ताइवान की तरफ और 52 लड़ाकू विमान (Fighter Jets) भेजे. ताइवान के रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, उसके रक्षा क्षेत्र का उल्लंघन करने वालों में चीन के विमानों में 34 जे-16 लड़ाकू जेट और 12 एच-6 बमवर्षक शामिल थे. ताइवानी वायु सेना (Taiwan Airforce) ने वायु रक्षा प्रणाली से चीन के लड़ाकू विमानों की गतिविधियों पर नजर रखी. शुक्रवार को चीन के राष्ट्रीय दिवस के मौके पर पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने ताइवान के क्षेत्र में 38 विमान भेजे थे और शनिवार को उसने 39 विमानों को भेजा.

ताइवान द्वारा सितंबर 2020 से लगातार सीमा उल्लंघन की शिकायत की जा रही है. चीन ने सोमवार को एक दिन में सबसे अधिक विमान भेजे. रविवार को उसने अतिरिक्त 16 विमान भेजे थे. अमेरिका ने चीन की इस हरकत की कड़े शब्दों में निंदा की है. अमेरिका के विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने बयान जारी कर चेतावनी दी कि ताइवान के पास चीन की सैन्य गतिविधियों से क्षेत्रीय शांति और स्थिरता को खतरा पैदा हो गया है.

चीनी फाइटर जेट ताइवान के डिफेंस जाेन में घुसे, तो छोटे से देश ने दिया मुंहतोड़ जवाब

अमेरिका ने चीन को चेताया
ताइवान के एयर डिफेंस आइडेंटिफिकेशन जोन में लगातार चीनी लड़ाकू विमानों के पहुंचने को लेकर अमेरिका (America) ने चीन की निंदा की है. अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस (Ned Price) ने चेतावनी दी कि ताइवान के पास चीन की सैन्य गतिविधि की वजह से गलत अनुमान लग सकता है और इससे क्षेत्रीय शांति और स्थिरता कमजोर हो सकती है. विदेश विभाग के बयान में कहा गया, ‘हम बीजिंग (Beijing) से ताइवान के खिलाफ सैन्य, राजनयिक और आर्थिक दबाव और जबरदस्ती बंद करने का आग्रह करते हैं.’ बता दें कि अमेरिका और ताइवान के काफी घनिष्ठ संबंध हैं.

अफगानिस्तान के बगराम एयरबेस पर चीनी जहाज उतरने की खबर, तालिबान का इनकार

अमेरिकी युद्धपोतों पर हमले की प्रैक्टिस कर रहे थे चीनी विमान
ताइवान ने चीन की गतिविधियों को ‘ग्रे जोन’ युद्ध करार दिया है, जिसे ताइवान की सेना को कम करके आंकने और उनकी क्षमताओं का परीक्षण करने के लिए डिजाइन किया गया है. क्षेत्र में सुरक्षा मामलों की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने सोमवार को बताया कि चीनी विमान संभवतः अमेरिकी युद्धपोतों पर हमले की प्रैक्टिस कर रहे थे. (एजेंसी इनपुट के साथ)

Tags: China





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

  ⁄  four  =  one