Virat Kohli PC Matter BCCI not in hurry Sourav Ganguly will not talk before test series against south Africa


नई दिल्ली. भारतीय टेस्ट कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) की तूफानी प्रेस कॉन्फ्रेंस से स्तब्ध भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) इस संकट से निपटने के लिए विकल्पों पर विचार कर रहा है. बोर्डयह भी सुनिश्चित करेगा कि मैदान के बाहर के नाटकीय घटनाक्रम से महत्वपूर्ण टेस्ट सीरीज (IND vs SA Test Series) से पहले टीम का ध्यान भंग नहीं हो. विराट कोहली ने 3 मैचों की सीरीज के लिए दक्षिण अफ्रीका रवाना होने से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने इसी दौरान दावा किया कि टी20 टीम की कप्तानी ना छोड़ने के लिए किसी तरह का अनुरोध उनसे नहीं किया गया. विराट का बयान बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के बयान के उलट था जो उन्होंने मीडिया में दिया था.

अतीत में बमुश्किल ही ऐसे मामले देखने को मिले हैं, जब भारतीय क्रिकेट के सुपरस्टार और मौजूदा कप्तान तथा अध्यक्ष पद पर काबिज पूर्व कप्तान के बयानों में विरोधाभास हो. पता चला है कि बुधवार को जो हुआ, उससे बीसीसीआई में कोई भी खुश नहीं है लेकिन अधिकारियों का मानना है कि मामले के तुरंत हल के लिए उनकी कोई भी कड़ी प्रतिक्रिया नुकसानदेह हो सकती है.

इसे भी देखें, विराट कोहली का प्रेस कॉन्फ्रेंस में छलका दर्द- ‘मैं वनडे का कप्तान बने रहना चाहता था लेकिन…’

विराट कोहली गुरुवार शाम दक्षिण अफ्रीका पहुंच गए जबकि कोलकाता में बोर्ड अध्यक्ष ने स्पष्ट किया कि वह कोई सार्वजनिक बयान नहीं देंगे. सौरव गांगुली ने मीडिया से कहा, ‘कोई बयान नहीं, कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं. हम इससे निपट लेंगे, इसे बीसीसीआई पर छोड़ दीजिए.’ पता चला है कि गांगुली और सचिव जय शाह सहित बीसीसीआई के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने बुधवार को ‘जूम कॉल’ पर बात की जहां सामूहिक रूप से फैसला किया गया कि कोई भी प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं करेगा और ना ही मीडिया में बयान जारी करेगा.

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ सूत्र ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर पीटीआई को बताया, ‘विशेषज्ञ का नजरिया जाना गया कि इस संवेदनशील मामले से कैसे निपटा जाए क्योंकि इससे अध्यक्ष के कार्यालय का सम्मान जुड़ा है. बीसीसीआई को पता है कि टेस्ट सीरीज होने वाली है और जल्दबाजी में लिया गया उनका कोई फैसला या बयान टीम का मनोबल प्रभावित कर सकता है.’

इसे भी देखें, सौरव गांगुली विवाद के बाद बोले- वनडे और टी20 कप्तान के लिए रोहित शर्मा ही थे ‘बेस्ट च्वॉइस’

कप्तान और अध्यक्ष के लिए सर्वश्रेष्ठ तरीका यह होगा कि दोनों बैठकर सौहार्दपूर्ण तरीके से मतभेद या संवादहीनता का हल निकालें. फिलहाल गांगुली या शाह के कप्तान से बात करने की संभावना कम है. सामान्य तौर पर केंद्रीय अनुबंध खिलाड़ी से संस्था या पदाधिकारियों के खिलाफ आलोचनात्मक टिप्पणी की उम्मीद नहीं की जाती लेकिन कोहली की जो हुआ, उससे जुड़े एक सवाल के जवाब में दी गई प्रतिक्रिया नियमों को उल्लंघन है या नहीं, यह भी एक सवाल है इसलिए इस समस्या का कोई आसान हल नहीं होने वाला.

Tags: Captain Virat Kohli, Cricket news, Ind vs sa, India vs South Africa, Sourav Ganguly, Virat Kohli





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eighty one  ⁄    =  nine