Virat Kohli vs BCCI now Board in trouble If issue the statement then the captain is false if does not then questions will be raised on the president


नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) और टेस्ट कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के बीच मतभेद बुधवार को सार्वजनिक हो गया, जब टेस्ट कप्तान ने बोर्ड के ‘गलत’ दावे को खारिज किया कि उन्हें टी20 टीम की कप्तानी नहीं छोड़ने के लिए मनाने की कोशिश की गई थी. भारत के सबसे कामयाब क्रिकेटरों में से एक कोहली ने यह भी कहा कि उन्हें वनडे कप्तानी से हटाने के फैसले के बारे में चयन समिति के प्रमुख चेतन शर्मा (Chetan Sharma) ने दक्षिण अफ्रीका के लिए टेस्ट टीम (India vs South Africa) की घोषणा से महज डेढ घंटे पहले ही बताया था.

भारतीय क्रिकेट के इतिहास का यह नया अध्याय प्रतीत होता है, जिसमें एक हाई प्रोफाइल कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने सार्वजनिक तौर पर बोर्ड अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के इस बयान को खारिज कर दिया कि बोर्ड ने उनसे अनुरोध किया था कि वे टी20 टीम की कप्तानी नहीं छोड़ें. बीसीसीआई को ‘रेड अलर्ट’ पर डालने वाले आखिरी भारतीय कप्तान खुद सौरव गांगुली थे, जिनका तत्कालीन कोच ग्रेग चैपल के साथ विवाद जगजाहिर था. गांगुली को 2005 में जिम्बाब्वे में टेस्ट सीरीज जीतने के बाद कप्तानी से हटा दिया गया था. उन्होंने कहा था कि उन्हें कप्तानी छोड़ने के लिए कहा गया था.

कोहली के इस बयान से बोर्ड को बड़ा नुकसान
इसके बाद दिवंगत जगमोहन डालमिया को बोर्ड अध्यक्ष पद से हटा दिया गया था. उसके बाद से क्रिकेट की राजनीति बद से बदतर हो गई. समझा जाता है कि गांगुली इस मामले से काफी खिन्न हैं, लेकिन बोर्ड अध्यक्ष के तौर पर वह सामूहिक फैसला लेने के पक्ष में होंगे. बोर्ड के एक अनुभवी प्रशासक ने कहा, ”बीसीसीआई के लिए यह काफी पेचीदा है. बोर्ड बयान जारी करता है तो कप्तान को झूठा साबित करेगा. बयान जारी नहीं करता है तो अध्यक्ष पर सवाल उठेंगे. कोहली के बयान से बोर्ड को काफी नुकसान हुआ है और ज्यादा इसलिए क्योंकि संवादहीनता की स्थिति है.” बीसीसीआई की मानें तो एक वरिष्ठ ने दावा किया कि जब कोहली से पूछा गया कि क्या टी20 कप्तान छोड़ना उचित होगा तो उसमें नौ लोग शामिल थे. इनमें पांच चयनकर्ता, अध्यक्ष सौरव गांगुली, सचिव जय शाह, कप्तान विराट कोहली और रोहित शर्मा शामिल हैं.

बाबर आजम से छिना नंबर 1 का ‘ताज’, जानें किसने ICC T20 रैंकिंग में किया रिप्लेस

कप्तान और बोर्ड के बीच संवादहीनता है
इस समूचे घटनाक्रम से यह साबित हो गया कि कप्तान और बोर्ड के बीच संवादहीनता है. इसके अलावा रोहित को वनडे कप्तान बनाने की ट्विटर पर एक पंक्ति की घोषणा में कोहली का जिक्र नहीं होना गरिमामय नहीं था. बता दें कि दक्षिण अफ्रीका दौरे पर रवाना होने से पहले प्रेस कांफ्रेंस में कोहली ने कहा, ”जो फैसला किया गया उसे लेकर जो भी संवाद हुआ, उसके बारे में जो भी कहा गया वह गलत है.” कोहली ने कहा, ”जब मैंने टी20 कप्तानी छोड़ी तो मैंने पहले बीसीसीआई से संपर्क किया और उन्हें अपने फैसले के बारे में बताया और उनके (पदाधिकारियों) सामने अपना नजरिया रखा.”

गांगुली के बयान को विराट ने कर दिया खारिज
भारतीय कप्तान ने गांगुली के कुछ दिन पहले के बयान से बिलकुल विपरीत जानकारी देते हुए कहा, ”मैंने कारण बताए कि आखिर क्यों मैं टी20 कप्तानी छोड़ना चाहता हूं और मेरे नजरिए को अच्छी तरह समझा गया. कुछ गलत नहीं था, कोई हिचक नहीं थी और एक बार भी नहीं कहा गया कि आपको टी20 कप्तानी नहीं छोड़नी चाहिए.” वनडे कप्तानी को लेकर उन्होंने कहा, ”आठ दिसंबर को टेस्ट सीरीज के लिए चयन बैठक से डेढ़ घंटा पहले मेरे साथ संपर्क किया गया और इससे पहले टी20 कप्तानी को लेकर मेरे फैसले की घोषणा के बाद से मेरे साथ कोई संपर्क नहीं किया गया था.”

कोहली ने कहा, ”मुख्य चयनकर्ता ने टेस्ट टीम पर चर्चा की जिस पर हम दोनों सहमत थे. बात खत्म करने से पहले मुझे बताया गया कि पांच चयनकर्ताओं ने फैसला किया है कि मैं एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय कप्तान नहीं रहूंगा जिस पर मैंने कहा ‘ठीक है, कोई बात नहीं.” उन्होंने कहा, ”इसके बाद टीम चयन के दौरान हमने इसके बारे में संक्षिप्त में बात की और यही हुआ.” कोहली ने कहा कि बीसीसीआई के पदाधिकारियों ने उनके फैसले को प्रगतिशील बताया.
विराट कोहली के बयान के बाद बोले पूर्व क्रिकेटर, …. और क्रिकेट विजेता नहीं होगा

उन्होंने कहा, ”इसके विपरीत बीसीसीआई ने इसे प्रगतिशील और सही दिशा में उठाया गया कदम करार दिया था. उस समय मैंने कहा था कि हां, टेस्ट और एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय में मैं (कप्तान) बरकरार रहना चाहता हूं जब तक कि पदाधिकारियों और चयनकर्ताओं को लगता है कि मुझे इस जिम्मेदारी को निभाते रहना चाहिए.” कोहली ने कहा, ”बीसीसीआई के साथ मेरा संवाद स्पष्ट था. मैंने विकल्प दिया था कि अगर पदाधिकारियों और चयनकर्ताओं की सोच कुछ और है तो यह (फैसला) उनके हाथ में है.”

Tags: BCCI, Chetan Sharma, Cricket news, Ind vs sa, India vs South Africa, Rohit sharma, Sourav Ganguly, Virat Kohli





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eighty eight  ⁄  twenty two  =