Davis Cup India may pose grass court or fast hard court challenge for Denmark


नई दिल्ली. डेनमार्क के खिलाफ अगले साल मार्च में होने वाले अगले डेविस कप विश्व ग्रुप एक के मुकाबले के लिए भारत ग्रासकोर्ट या तेज हार्डकोर्ट तैयार कर सकता है जबकि युकी भांबरी इसके जरिये वापसी करेंगे. मुकाबले के लिए स्थान के चयन की प्रक्रिया गुरुवार से शुरू हो गई. अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) अगले साल चार और पांच मार्च को होने वाले विश्व ग्रुप एक के मुकाबले के लिए खिलाड़ियों से उनके पसंदीदा कोर्ट और संभावित राज्य संघ को लेकर बात कर रहा है.

डेनमार्क के खिलाड़ियों को क्लेकोर्ट या धीमे हार्डकोर्ट पर खेलने की आदत है तो भारत अपने अनुकूल कोर्ट तैयार करेगा. युकी ग्रासकोर्ट पर अच्छा खेलते हैं और रामकुमार रामनाथन भी पिछले कुछ अर्से से अच्छा खेल रहे हैं. एक सूत्र ने कहा, ”लगता है कि ग्रासकोर्ट या तेज हार्डकोर्ट बनाया जायेगा. युकी ग्रास पर खेलना पसंद करता है और वह हमारा शीर्ष खिलाड़ी है.”

अगर मुकाबला ग्रास पर होता है तो दिल्ली, चंडीगढ, जयपुर या लखनऊ में हो सकता है. हार्डकोर्ट पर होने की दशा में इंदौर में मैच कराये जा सकते है. भारत को तीन साल बाद डेविस कप मुकाबले की मेजबानी सौंपी गई है. एआईटीए के महासचिव अनिल धूपर ने कहा कि कप्तान रोहित राजपाल खिलाड़ियों से बात करके पता करेंगे कि घरेलू टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ कोर्ट कौन सा होगा.

धूपर ने इंदौर से पीटीआई से कहा, ”हमें दो दिन में पता चल जाएगा कि हम इस मुकाबले की मेजबानी कहां करेंगे. एक बार जब हमें खिलाड़ियों की कोर्ट को लेकर पसंद पता चल जाएगी तो हम देखेंगे कि इस लिहाज से कौन सा स्थान सर्वश्रेष्ठ होगा.” एआईटीए के एक अधिकारी ने कहा, ”मुझे लगता है कि दिल्ली इन मैचों की मेजबानी करेगा क्योंकि दिल्ली ने हाल में किसी बड़ी प्रतियोगिता की मेजबानी नहीं की है. यह भारत और डेनमार्क के बीच सितंबर 1984 के बाद पहला मुकाबला होगा. तब आरहस में खेले मुकाबले में भारत ने 3-2 से जीत दर्ज की थी.

Tags: Davis Cup, Denmark, Grass Court, India, Yuki Bhambri





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eighty four  ⁄  twenty eight  =