ankita raina may play in tokyo olympics aita writes letter to international tennis federation – News18 हिंदी


नई दिल्ली. भारत की प्रतिभाशाली महिला टेनिस खिलाड़ी अंकिता रैना (Ankita Raina) आगामी टोक्यो ओलंपिक खेलों में हिस्सा ले सकती हैं. अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) ने आईटीएफ (अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ) से इसके लिए अनुरोध किया है. एआईटीए का कहना है कि अंकिता को 2018 एशियाई खेलों में कांस्य पदक के आधार पर टोक्यो ओलंपिक के महिला एकल ड्रॉ में एक स्थान देने पर विचार किया जाए क्योंकि चीन की स्वर्ण और रजत पदक विजेता अपनी ऊंची रैंकिंग से सीधे प्रवेश के योग्य हैं.

अंकिता ने 2018 एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था जिसमें से विजेता का टोक्यो ओलंपिक के महिला एकल ड्रॉ में महाद्वीपीय क्वालिफिकेशन स्थान पक्का था. चीन की वांग कियांग ने जकार्ता और पालेम्बांग में हुए खेलों में स्वर्ण पदक जीता था जबकि उनकी हमवनत झांग शुआई ने रजत पदक अपने नाम किया था. वहीं, 14 जून की डब्ल्यूटीए रैंकिंग के आधार पर झांग (36वीं रैंकिंग) और शुआई (38वीं रैंकिंग) सीधे प्रवेश कर लेंगी.

आईटीएफ के नियमों के अनुसार, जो खिलाड़ी महाद्वीपीय खेलों का क्वालीफिकेशन स्थान और फिर सीधे रैंकिंग दोनों से स्थान हासिल कर लेता है, वह महाद्वीपीय क्वालिफिकेशन कोटा स्थान से ही क्वालिफाई करेगा. एआईटीए ने लिखा है कि अंकिता का प्रवेश के लिए विचार किया जाए ताकि देश का टोक्यो ओलंपिक की एकल स्पर्धा में प्रतिनिधित्व हो सके.

इसे भी पढ़ें, खेलों का महाकुंभ शुरू होने में एक महीने से भी कम वक्त, कोविड-19 में भी सफल होंगे ओलंपिक गेम्स

एआईटीए के एक सीनियर अधिकारी ने पीटीआई से कहा, ‘हमने उन्हें अंकिता के महाद्वीपीय कोटे के जरिये प्रवेश के बारे में लिखा है और उन्होंने हमें कहा है कि वे हमें बताएंगे.’ उन्होंने कहा, ‘यह समझ में आता है कि अगर स्वर्ण और रजत पदक विजेताओं ने अपनी ऊंची रैंकिंग के आधार पर ड्रॉ में प्रवेश कर लिया है तो महाद्वीपीय स्थान अगले सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले को दिया जाना चाहिए.’

28 साल की अंकिता हालांकि महिला युगल में तोक्यो में अपना ओलंपिक पदार्पण करेंगी जिसमें वह सानिया मिर्जा की जोड़ीदार होंगी जिन्होंने अपनी शीर्ष 10 रैंकिंग के आधार पर सीधे प्रवेश किया. वह 14 जून की रैंकिंग में 181वें स्थान पर थीं और इसी दिन सीधे प्रवेश तय हुआ था. सानिया ने अपनी सुरक्षित रैंकिंग (नौ) का इस्तेमाल करते हुए ओलंपिक का टिकट कटाया है.

इसे भी पढ़ें, सानिया मिर्जा इवेंट खेल रहीं पर उनका 2 साल का बेटा होटल में बंद, आखिर क्यों?

इस बीच विश्वस्त सूत्रों ने कहा कि भारत का पुरुष एकल में प्रतिनिधित्व नहीं हो पाएगा क्योंकि कट 105 रैंकिंग पर रहा और भारत के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी – सुमित नागल (144) और प्रजनेश गुणेश्वरन (148) – इसके करीब भी नहीं हैं. यह देखना होगा कि रोहन बोपन्ना (38) और दिविज शरण (75) को पुरुष युगल में प्रवेश मिलता है या नहीं। 14 जून को मिलाकर इनकी रैंकिंग 113 थी, जिसका मतलब है कि इनका क्वालीफिकेशन अन्य देशों की टीमों के हटने पर निर्भर करेगा.

रोहन बोपन्ना और शरण ने एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था लेकिन कोटा केवल एकल खिलाड़ियों के लिए रखा गया था. अगर भारत पुरूष युगल में टीम नहीं उतार पाता है तो देश का मिश्रित युगल स्पर्धा में भी प्रतिनिधित्व नहीं होगा क्योंकि 16 टीमों की स्पर्धा में केवल अन्य स्पर्धाओं के मुख्य ड्रा के खिलाड़ियों को ही रखा जाएगा.

Tags: Ankita Raina, Sports news, Tennis





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

  ⁄  1  =  seven