IND vs NZ 2nd test Why Rahul Dravid is getting good headache told after the Mumbai test Match


नई दिल्ली. भारत ने मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में न्यूजीलैंड (India vs New Zealand) को दूसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन 372 रनों से मात दी. रनों के मार्जन के लिहाज से टेस्ट क्रिकेट इतिहास में यह भारत की सबसे बड़ी जीत है. इससे पहले सबसे बड़ी जीत 337 रन की थी, जो 2015 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आई थी. इस जीत के साथ ही भारत ने न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज को 1-0 से जीत लिया है. इससे पहले कानपुर में खेला गया पहला टेस्ट मैच ड्रॉ रहा था. सीरीज जीत के बाद टीम इंडिया के हेड कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने टीम और युवा खिलाड़ियों की जमकर तारीफ की. इसी के साथ द्रविड़ ने सीनियर खिलाड़ियों के चोटिल होने और युवा खिलाड़ियों के शानदार परफॉर्मेंस को चयनकर्ताओं के लिए बड़ा सिरदर्द बताया है.

राहुल द्रविड़ ने कहा, मुझे लगता है कि सीरीज खत्म करना अच्छा रहा. कानपुर टेस्ट में मैच काफी नजदीकी रहा था. हम आखिरी विकेट नहीं ले पाए थे, वहां हमें कड़ी मेहनत करनी पड़ी थी. मुंबई टेस्ट का परिणाम एकतरफा रहा है, हम 372 रनों के अंतर से जीते हैं, लेकिन सीरीज में हमें कड़ी मेहनत करनी पड़ी. ऐसे मौके भी आए हैं, जहां हम पीछे थे और हमें वापसी के लिए लड़ना पड़ा. इसका श्रेय टीम को जाता है. नए खिलाड़ियों को आगे बढ़ते हुए और अपने अवसरों का लाभ उठाते हुए देखकर अच्छा लगा. हां, हमने कुछ सीनियर खिलाड़ियों को मिस किया.”
WTC Points Table: भारत तीसरे स्थान पर, चैंपियन न्यूजीलैंड को लगा बड़ा झटका, यहां देखें पूरी लिस्‍ट

युवा खिलाड़ियों को परफॉर्म करते देख अच्छा लगा
उन्होंने आगे कहा, ”आगे बढ़कर शानदार करने वाले खिलाड़ियों को इसका श्रेय जाता है. जयंत यादव ने आज शानदार खेल दिखाया है. हालांकि, कल का दिन उनके लिए मुश्किल रहा था. लेकिन उन्होंने इससे सीखा और आज बेहतर किया. मयंक अग्रवाल, श्रेयस अय्यर, मोहम्मद सिराज, जिन्हें ज्यादा मौके नहीं मिलते, उन खिलाड़ियों ने बहुत अच्छा किया. अक्षर ने दिखाया कि वह बल्ले से क्या कर सकते हैं. इशके साथ ही उन्होंने जिस तरह पूरी सीरीज में गेंदबाजी की, उसे देखकर बहुत अच्छा लगा. यह हमें बहुत सारे विकल्प भी देता है, हमें एक मजबूत पक्ष बनने में मदद करता है.”

राहुल द्रविड़ ने बताया, क्यों नहीं दिया फॉलोऑन
हेड कोच ने कहा, ”हमें पता था कि हमारे पास काफी समय है, हमने फॉलोऑन के बारे में ज्यादा नहीं सोचा. टीम में काफी युवा बल्लेबाज भी थे, इसलिए हम उन्हें ऐसी परिस्थितियों में बल्लेबाजी करने का मौका देना चाहते थे. जानते थे कि हम भविष्य में ऐसी स्थितियों में हो सकते हैं, जहां हमें कठिन परिस्थितियों में ऐसा करने के लिए मजबूर करना पड़ सकता है तो यह एक महान अवसर था. यह हमारे खिलाड़ियों के विकास में मदद करने के लिए बहुत अच्छा था.”
IND vs NZ: विराट कोहली तीनों फॉर्मेट में 50 जीत दर्ज करने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी, धोनी और पोंटिंग पीछे छूटे

चयनकर्ताओं को होने वाला है अच्छा सिरदर्द
उन्होंने कहा, ”यह एक अच्छी स्थिति है, हमारे सीनियर खिलाड़ी चोटिल हैं. ऐसे में हमें अपने खिलाड़ियों को शारीरिक और मानसिक रूप से प्रबंधित करने की आवश्यकता है. यह मेरी चुनौती का एक बड़ा हिस्सा होने जा रहा है, चयनकर्ताओं और नेतृत्व समूह के लिए भी चुनौती है. यह एक अच्छा [चयन] सिरदर्द है, देखें कि युवा लड़के अच्छा प्रदर्शन करते हैं. उनमें अच्छा करने की बहुत इच्छा है और सभी एक-दूसरे से आगे निकल रहे हैं. मुझे उम्मीद है कि जब तक हमारे पास स्पष्ट बातचीत है और हम खिलाड़ियों को समझा पाते हैं तो इसे कोई समस्या क्यों नहीं लगती है.”

Tags: Cricket news, IND vs NZ, IND vs NZ 2021, India vs new zealand, India vs New Zealand 2021, India vs South Africa, Rahul Dravid





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

sixty eight  ⁄    =  17