Free Video Downloader

PT Usha remembered how she won the gold medal by running again


मुंबई. अपने जमाने की दिग्गज फर्राटा धाविका पीटी ऊषा का 100 मीटर दौड़ में पदार्पण घटनाप्रधान रहा, क्योंकि उन्हें गलती से ‘गलत शुरुआत’ के कारण अयोग्य घोषित कर दिया गया था. फिर दर्शकों के हस्तक्षेप के बाद उन्होंने दोबारा दौड़कर गोल्ड मेडल जीता था. ‘उड़न परी’ ऊषा ने पीटीआई से कहा कि तिरुवनन्तपुरम में 1977 के राष्ट्रीय खेलों में वह दर्शकों के समर्थन के कारण ही 100 मीटर की दौड़ जीत पाई थी.

उन्होंने कहा, ”जब मैंने 1977 में त्रिवेंद्रम में अपने पहले राष्ट्रीय खेलों में हिस्सा लिया तो मैं अंडर-14 वर्ग में थी. मैं 100 मीटर में गयी थी क्योंकि मुझे फर्राटा दौड़ पसंद है. शुरू में किसी अन्य लड़की ने गलत शुरुआत की, लेकिन अधिकारी ने मेरे नाम के आगे ‘फाउल’ लिख दिया.” ऊषा ने कहा, ”इसके बाद मेरे दायीं तरफ दौड़ रही लड़की ने गलत शुरुआत की लेकिन इसमें भी मेरे नाम के आगे फाउल लिख दिया गया. तीसरी दौड़ में उन्होंने मुझे बाहर कर दिया.”

उन्होंने कहा, ”वहां काफी दर्शक थे और वे मैदान पर आ गए. उनका कहना था कि मैंने नहीं बल्कि अन्य लड़कियों ने गलती की है. इसके बाद फिर से दौड़ हुई जिसे मैंने जीता. मेरी 100 मीटर में शुरुआत ऐसी रही थी.” ऊषा ने तब पंजाब की हरजिंदर कौर को हराया था. ऊषा ने एथलेटिक्स में भारत के पहले ओलंपिक गोल्ड मेडल विजेता नीरज चोपड़ा की भी सराहना करते हुए कहा कि भाला फेंक के इस खिलाड़ी ने दिखाया है कि देश के एथलीट सबसे बड़े वैश्विक स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन कर सकते हैं.

उन्होंने कहा, ”लंबे अर्से बाद किसी भारतीय एथलीट ने मेडल जीता. मैं और मिल्खा सिंह ओलंपिक मेडल के करीब पहुंचे थे, लेकिन मामूली अंतर से चूक गये थे. इस साल एथलेटिक्स में मेडल का लंबा इंतजार समाप्त हो गया.”

ऊषा ने कहा, ”नीरज का गोल्ड मेडल सभी एथलीटों के लिए प्रेरणा का काम करेगा, क्योंकि अब वे जानते हैं कि एथलेटिक्स में कैसे मेडल जीते जा सकते हैं. यदि वे कड़ी मेहनत करते हैं और उन्हें अन्य देशों की तरह सुविधाएं मिलती है तो ट्रैक एवं फील्ड एथलीट ओलंपिक मेडल जीत सकते हैं. उन्होंने (चोपड़ा) रास्ता दिखा दिया है.” नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में भाला फेंक में गोल्ड मेडल जीता था.

Tags: Neeraj Chopra, PT Usha





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

thirty six  ⁄    =  twelve