मोनियर विलियम्स ने संस्कृत को क्यों चुना और वे इसे क्यों बढ़ाना चाहते थे?

मोनियर विलियम्स ने भारतीय भाषाओं के पारस्परिक संबंध पर अपना पूरा जीवन लगा दिया. अपने अध्ययन में उन्होंने पाया कि कोई भी भारतीय भाषा संस्कृत के बिना जीवित नहीं रह सकती. 5 नवंबर, 1851 को उन्होंने ‘इंग्लिश और संस्कृत शब्दकोष’ की भूमिका में लिखा,’ऐसी एक भी भारतीय भाषा नहीं है जो संस्कृत से शब्द उधार […]

Continue Reading